भड़क | Rohtash Tito Kheri | Lyrics

भड़क हरयान्वी गाना गीत अरोड़ा, सितेंद्र लाठर और बजरंग शर्मा अभिनीत एक मजेदार वीडियो ट्रैक हैं। हरयान्वी एल्बम हिट्स का यह गाना रोहताश टीटो खेरी ने गाया हैं। इस लेटेस्ट गाने का म्यूज़िक सरगम स्टूडियो ने कंपोज किया व गाने के बोल गौरव प्रवीण पारासर की क़लम से लिखे गये हैं।

सारे गांव में गौरी के रूप रंग की चर्चा हो रही हैं। पहले गौरी सिंपल सी रहा करती थी लेकिन अब दिन व दिन निखरती आ रही हैं और कई आशिक उसके दीवाने हो गए हैं। जब बन ठन गौरी अपने घर से बाहर निकलती हैं तो उसे देखकर आशिको का लहू जल रहा हैं।

Bhadak Song Lyrics

सारे गांव के भड़क बिठा राखी क्यों बीज बिगन के बोह गी
सोलह सत्राह से के टपगी तू घणी सवासन होगी

कदे सिंपल सी तू होया करती कती निखरती आवे सै
एक बात बता दे मरजाणी तू कुणसा सौदा ल्यावे सै
कदे दूर ते पलकी लागे सै तू यारा का मन मोहगी
सोलह सत्राह से के टपगी तू घणी सवासन होगी

जब पहली बारी देखी थी उस दिन से हो गया प्यार मैंने
तेरे लाड लडाऊ बहुत घणे ले मानले भरतार मैंने
मैं दिल ते चाहवान आल्या सु तू किसके ख्याला में खोगी
सोलह सत्राह से के टपगी तू घणी सवासन होगी

अन्य हरियान्वी गाने भी देखे :