भूलगी यार ने | Narendra Jangid,Alka Sharma | Lyrics

नरेंद्र जांगिड़ और अल्का शर्मा की आवाज़ में भूलगी यार ने हरियानवी गीत अल्का म्यूजिक की ओर से प्रस्तुत़ हुआ हैं। इस गीत के बोल नरेंद्र जांगिड़ ने लिखे हैं और म्यूज़िक कंपोजिंग एस.के म्यूजिक ने की हैं।

प्रेमी अपनी प्रमिका के रात को रोज सपने देखता हैं लेकिन वो उसे भुला चुकी हैं। खेत में रोज स्माइल मारके निकला करती थी और आज उसे बात नहीं करना चाहती हैं। पहले तो प्रेमी के मन में प्यार जाग दिया और अब उसका दिल को तोड़ दिया।

Bhoolgi Yaar Ne Song Lyrics

पहल्या तो तू देख्या करती आज भूल गई प्यार ने x2
मैं देखु सपने रोज तेरे तू जड़ ते भूल गयी यार ने

(मार स्माइल बैरण तू निकल्या करती धोरे ते
इब के ऐसा सांप सूंघग्या बोले कोनी मेरे ते ) x2
डबल फेस की लाइट बनके तोड़ गयी तार ने
मैं देखु सपने रोज तेरे तू जड़ ते भूल गयी यार ने

(पढाई आले सूट देखकर मैंने दिखावन आवे ती
आंदी जांदी मरजाणी तू आंख्या ते बतलावे ती) x2
बदनामी ते डरके यार ना होती घर ते बाहर ने
मैं देखु सपने रोज तेरे तू जड़ ते भूल गयी यार ने

(पहल्या प्यार जगागी बैरण इब बोलन ते नाटे ते
नरेंद्र जांगिड़ गाडण जोगी मुश्किल दिल ने डाडे ते ) x2
म्हारोडे गांव में तार दिए इस प्यार की उधार ने

अन्य हरियान्वी गाने: