बुआ के जारी थी | TR | Lyrics

हरियान्वी एल्बम का बुआ के जारी थी, जो की एक मजेदार सॉन्ग हैं, इसमे आवाज टी.आर ने दी हैं। गाने के बोल डी.के मेहला ने तैयार किए हैं जबकि म्यूज़िक टी.आर ने दिया हैं। डी.के मेहला और सोनू मुसेपूरिया ने इस गाने में अपनी अहम भूमिका निभाई हैं। इस गाने के निर्देशक एस.के राव लूचा हैं।

प्रेमिका के कभी अपनी बुआ कभी अपने ननिहाल जा रही हैं और प्रेमी को कभी फ़ोन नहीं करती हैं। प्रेमी उससे बात करने के चक्कर में सारे दिन उसके घर के आस-पास घूमता रहता है और इस तरह उसके इंतजार में सारा दिन निकाल देता हैं। गौरी से एक मुलाक़ात करने के लिए प्रेमी तरस रहा हैं।

Bua Ke Jari Thi Song Lyrics

कदे बुआ के कदे मामा के तू चली देके घुटी
तने एक भी फ़ोन करया नहीं बीत गई पूरी छुट्टी

हा रे के गौरी मेरा दिल ले गई जाते जाते मीठा गम दे गई

मेरी बात ने सुनले तू छोरी ध्यान लगाके
घणी कसूती होरी सै तू अपनी बुआ के जाके
रे किसका झूठा खान लगी तू हो रही आज कल झूठी
तने एक भी फ़ोन करया नहीं बीत गई पूरी छुट्टी

हा रे के गौरी मेरा दिल ले गई जाते जाते मीठा गम दे गई

कितने दिन हो गए मैंने तू देरी से लारा
केवल की तू ध्यान रे मैं और बनाया प्यारा
मैं कद देखु बाट तेरी रे आस मेरी या टूटी
तने एक भी फ़ोन करया नहीं बीत गई पूरी छुट्टी

हा रे के गौरी मेरा दिल ले गई जाते जाते मीठा गम दे गई

अन्य हरियान्वी गाने भी देखे :