चटक मटक | Ravi Kalra, Kavita Subho | Lyrics

हरियान्वी एल्बम के न्यू सॉन्ग में आवाज रवि कालरा और कविता सुभो ने दी हैं। चटक मटक गाने के बोल रवि कालरा ने तैयार किए हैं जबकि म्यूज़िक गोल्ड-ए- गिल ने दिया हैं। दीपक यादव और रुपाली मलिक ने इस गाने में अपनी अहम भूमिका निभाई हैं। इस गाने के निर्देशक रवि कालरा हैं।

प्रेमिका को मोरनी सी चाल देखकर प्रेमी के दिल को चोट लग रही हैं और प्रेमिका तो सभी आशिको को हॉट लगती हैं। प्रेमिका की बड़ाई करते हुए प्रेमी उसके करीब जाने की कोशिश कर रहा हैं वही प्रेमिका को प्रेमी को नियत ख़राब लग रही हैं और उससे बहाने बनाकर दूर जाने को कोशिश कर रही हैं।

Chatak Matak Song Lyrics

चटक चटक जाला मटक मटके और कसुता तू बोट लागे
मोरनी सी चाल तेरी ओ पूरा उभाण मेरे काळजे में चोट लागे
ओ छोरी रे तू सबने हॉट लागे

बहाने बनावे तू मैंने चढ़ावे किसी के ना चोट लागे
सारे शहर में गेडे तू मारे कोई तने हॉट लागे
ओ छोरे रे तेरी नियत में खोट लागे

माथे ऊपर बिंदिया चमके आंख्या में तेरे स्याही
किन भुजा रे छोरा पर कतल रोज तू फसाई
बदल बदल जाला गिरकानी कोन्या टोक लागे
ओ छोरी रे तू सबने हॉट लागे

अन्य हरियान्वी गाने :