फाड़ फाड़ | Gulzaar Chhaniwala | Lyrics

गुलज़ार छनिवाला की आवाज़ में फाड़ फाड़ हरियानवी गीत सोनोटेक म्यूज़िक कंपनी में प्रस्तुत़ हुआ हैं। इस गीत के बोल गुलज़ार छनिवाला ने लिखे हैं और म्यूज़िक कंपोजिंग भी गुलज़ार छनिवाला ने की हैं।

गांव का देशी गबरू नौजवान जिसके आगे अच्छे बदमाश अपना सिर झुखाकर चलते हैं और गांव के उसके बैगर को भी शुभ कार्य नहीं किया जाता हैं। बड़ो का सम्मान करना और छोटो को प्यार करता हैं उसके आगे कई बदमाशों में अपने हथियार छोड़ दिए हैं।

Faad Faad Song Lyrics

बेस गरड़ावे काला शीशा राखे कार का
बेरिया की फाटा देख रूप तेरे यार का
बाजे रांगनी की बीट ज्यादा लख्मी के गीत

ते गांवा में आला दिखे ना फसाये बेटा सिंह
तेरी हांयु की ढाला फाड़ फाड़ करदे

जुनसे बाउंसर का तू बने फिरे हेड
रे फ़ोन पर वे सामी ना बात करता
ल्याके उठाले लिए रे जैक खाके गुदी में

ते गांवा में आला दिखे ना फसाये बेटा सिंह
तेरी हांयु की ढाला फाड़ फाड़ करदे

अन्य हरियान्वी गाने :