जमींदार का छोरा | TR, Ruchika Jangid | Lyrics

हरियान्वी एल्बम का जमींदार का छोरा, जो की एक मजेदार सॉन्ग हैं, इसमे आवाज टी.आर और रुचिका जांगिड़ ने दी हैं। गाने के बोल मंडी गोदारा ने तैयार किए हैं जबकि म्यूज़िक टी.आर ने दिया हैं। एम.के देवेरखानिया और मोना कश्यप ने इस गाने में अपनी अहम भूमिका निभाई हैं।

आशिक का दिल शहर की एक लड़की पर आ गया हैं और उससे अपनी रानी बनाना चाहता हैं। वही आशिक जमींदार होने पर गौरी उससे अपने दिल का नाता नहीं जोड़ रही हैं और उसके साथ रहने पर गौरी का रंग काला हो जायेगा। लेकिन जब गौरी आशिक साथ जाकर उसका काम देखगी तो उसका सीना चौड़ा हो जायेगा।

Jamidar Ka Chhora Song Lyrics

तेरी गेल्या चलूँगी तो चाहला हो जागा
तू जमींदार का छोरा रंग मेरा काला हो जागा

जे सारी न्यू नाटेगी तो रोला होजागा
जमींदार के छोरे ने बहुआ का तोडा हो जागा

सखी सहेली मारेगी ताना रे घना
आशिक ढूंढे हांडे जमींदार रे बण्या
तेरी गेल्या हांडू धूप में फाला हो जागा
तू जमींदार का छोरा रंग मेरा काला हो जागा

तू काम देखके मेरा साथ छोड़ देगी
तेरी सखिया ते कहन ते प्यार तोड़ देगी
मैंने देखके रिष सी आंख्या सी सीना छोड़ा हो जागा
जमींदार के छोरे ने बहुआ का तोडा हो जागा

अन्य हरियान्वी गाने भी देखे :