लाजवाब | Mashoom Sharma, A K Jatti | Lyrics

मासूम शर्मा और ए.के जट्टी की आवाज़ में लाजवाब हरियानवी गीत सोनोटेक म्यूज़िक कंपनी में प्रस्तुत़ हुआ हैं। इस गीत के बोल ललिता दुलरा ने लिखे हैं और म्यूज़िक कंपोजिंग पूर्णिमा स्टूडियो ने की हैं। अजमेर बालंभिया द्वारा निर्देशित इस गाने में शिव मदना और सोनिका सिंह अहम किरदार में नज़र आएँगे।

गौरी की बल खाती चाल देखकर आशिक उसका दीवाना हो गया और पहली ही नजर में अपना दिल दे बैठा हैं। उसकी आँखे नशीली और उसकी मीठी बोली लाजवाब हैं। वही गौरी आशिक को देखकर उससे दूर दूर भाग रही हैं और उसका पीछा करने वालो का वो मुंह तुड़वा देगी।

Lajwaab Song Lyrics

तेरी बल खाती या चाल सिर पे उड़े दुपट्टा लाल
होठ तेरे फूल गुलाब सै
तेरी नशीली मरजाणी तू लाजवाब सै

क्यों तू आड़ा आडा देखे नजर तेरी ने सेखे
के तू बन रहिया साहब सै
या चीज ना हाथ आनी क्यों लेरा ख्वाब सै

इस रूप तेरे का तोड़ नहीं कती कसी कसाई बॉडी सै
फुरसत के मा घडी दिखे ना क़सर राम ने छोड़ी सै
छोटी सी नाक पे लागे गुस्सा बे हिसाब सै
तेरी नशीली मरजाणी तू लाजवाब सै

तू तुडवावे सै देही ने तू ठाट तेरी झाल ने
मोर बना देगा जे ताड़े उसके माल ने
तू बनिया इब अंगूर या खड़ी शराब सै
या चीज ना हाथ आनी क्यों लेरा ख्वाब सै

अन्य हरियान्वी गाने भी देखे :