मैडम जी | Rajmawar | Lyrics

सतवीर मटाना द्वारा निर्देशित हरियान्वी एल्बम सॉन्ग मैडम जी में आवाज राजमावर ने दी हैं। जबकि म्यूज़िक विराज बंधू ने दिया हैं। युसूफ खान और ऋतू शर्मा ने इस लेटेस्ट गाने में अपनी अहम भूमिका निभाई हैं।

प्रेमिका उसके पापा को लाडली बेटी और सब घरवालों पर अपना रूप दिखाती हैं तो वही आशिक को अपने पिता की डांट खाये नींद नहीं आती है और दोनों मेल मिलाव नहीं हैं। प्रेमिका आशिक के पीछे पीछे सारा वक्त गुजार देती हैं लेकिन आशिक उस मेडम की तरफ आँख उठाकर भी नहीं देखता हैं और उससे रहने में ही अपनी भलाई समझता हैं।

Madam Ji Song Lyrics

तू पापा की अकली लाडो और सबते रोप जमावे
अठे बापू की फटकार बिना यारा ना नींद ना आवे

तू दूर चलीजा मेडम जी मुश्किल से साड्डा मिलना
ओह मेरी न्यारी सोच तेरी उँची पहुच म्हारा मेल नही मिलना

तेरा हाइ ब्रॅंडेड सिस्टम से मैं मानस सू कती देसी
तू गुच्ची अरमानी की लाडी पसंद यार ने देशी
नीचे चाम की जुत्ती गेल्या खेता के म्हा चलना
ओह मेरी न्यारी सोच तेरी उँची पहुच म्हारा मेल नही मिलना

तू डिग्री राखे ज़ेबा के माए यार थोड़ा से शाना
अडे दिन निकले ते पहेला पडजा दूर सिमाडे जाना
इते प्यारे हरियाने ने ना छोड़ कीते हिलना
ओह मेरी न्यारी सोच तेरी उँची पहुच म्हारा मेल नही मिलना

तेरी काली घनेरी जुल्फा में मेरे सूपने फीके पडजांगे
इस कलाकार के गीता पे खामेखा खारे रोड़े अड़ जांगे
अनिल छलिया सांचा डरे कदे पडजा फेर बिछडना
ओह मेरी न्यारी सोच तेरी उँची पहुच म्हारा मेल नही मिलना

अन्य हरियान्वी गाने :