नाज | T.R | Lyrics

टी.आर की मधुर आवाज में नया हरियानवी गीत नाज एम.जी रिकॉर्ड्स की ओर से प्रस्तुत हुआ हैं। राकेश मोहब्बतपुरिया ने गाने बोले लिखे हैं। इस गाने का म्यूजिक टी.आर व गौरव पांचल ने कम्पोज किया हैं। इस गाने में सोनिका सिंह व बिजेंद्र कलवा एक साथ नजर आएंगे।

मटक मटक के चली रही लड़की के पीछे उसके आशिक पड़े हुए हैं और सारे गांव में बस इसके नाम चर्चे चल रहे हैं। उसकी ठोड़ी पे तिल काला हैं और जवानी भरा बदन बल खा रहा हैं। अपनी तिरछी नजर के जादू से बैरण लडको के दिल पर राज कर रही हैं।

Naaj Song Lyrics

कित का लाग्या पाणी तेरा कित का लाग्या अनाज रे
घणी की सूती लागे सै मरजाणी मैंने आज रे

डोडी पे तिल काला नजरा ते तने बचा रह्या रे
मटक मटक के चाले रे बदन तेरा बल खा रह्या रे
भर भर उडी हांडे जणू उड़े सै जहाज रे
घणी की सूती लागे सै मरजाणी मैंने आज रे

सारे गांव में छोरी बस चर्चा तेरे नाम का
सारे छोरे कहवे सै तू तो चीज कसूती काम की
मैंने बता दे किसके दिल पे करेगी बैरण राज रे
घणी की सूती लागे सै मरजाणी मैंने आज रे

परिया से भी सुथरी बनाई होके राम ने ठाली रे
सुभाष ढाणी मोहब्बतपुरिया आले इब बात चाली रे
घणी की सूती लागे सै मरजाणी मैंने आज रे

अन्य हरियान्वी गाने: