नार | Ram Daultpur | Lyrics

हरियान्वी एल्बम का नार, जो की एक मजेदार सॉन्ग हैं, इसमे आवाज राम दौलतपुर ने दी हैं। गाने के बोल भी राम दौलतपुर ने तैयार किए हैं जबकि म्यूज़िक मोलड़ म्यूजिक ने दिया हैं। अविल हरयाणवी, जिया अहिया और लक्की रोब्स ने इस गाने में अपनी अहम भूमिका निभाई हैं।

गांव की एक नयी नवेली नार का आशिक दीवाना हो गया हैं और उसकी प्यारी सी सूरत आशिक के मन में बसगी गई हैं। झीने झीने घूँघट में अपनी तिरछी नजर से वो आशिको का लहू जला रही हैं और उसकी तिरछी नजर ने आशिको का दिल घायल कर दिया हैं।

Naar Song Lyrics

एक नयी नवेली नार दिल में मेरे बसगी रे
वा तो दो धारी तलवार कतल मेरा करगी
एक नयी नवेली नार दिल में मेरे बसगी रे

झीणा झीणा घूँघटा में तिरछी वा लखावेती
लाग रही थोड़ा मुंह ते बतलाना चाहवेती
वा तो करगी इशारे कई बार नजरा ते डसगी
एक नयी नवेली नार दिल में मेरे बसगी रे

किले आली जुत्ती उसकी कहर कमावती
ठुमक ठुमक चाले आगे लगावेती
एक नयी नवेली नार दिल में मेरे बसगी रे

अन्य हरियान्वी गाने भी देखे :