पल्लो लटके | Sukhbir | Lyrics

हरियान्वी एल्बम का पल्लो लटके, जो की एक मजेदार सॉन्ग हैं, इसमे आवाज सुखबीर ने दी हैं। गाने के बोल सोमबीर ढुल्ल ने तैयार किए हैं। सोमबीर ढुल्ल व हीना शर्मा ने इस गाने में अपनी अहम भूमिका निभाई हैं।

गौरी की मस्त जवानी देखकर आशिक का मन मटक रहा हैं और उसकी साड़ी का पल्लू लटक रहा हैं। जब गौरी डीजे पर डांस कर रही हैं तो कई आशिक उसके रूप रंग के दीवाने हो गये हैं और बड़े बड़े शहर की गौरी ने मरोड़ निकाल दी हैं। उसकी भरी जवानी को देखकर बूढ़े भी अब मटकने लगे हैं।

Pallo Latke Song Lyrics

मस्त जवानी तेरी बैरण मन यो म्हारो भटके
हाय रे तेरो पल्लो लटके गौरी रे तेरो पल्लो लटके

डीजे ऊपर नाचन लागे फाड़ दे सै तोड़
बड़े बड़े शहर की तने काड दी मरोड़
तेरी भरी जवानी देखके यो बूढ़ो मटको
हाय रे तेरो पल्लो लटके गौरी रे तेरो पल्लो लटके

हिरणी बरगी फुर्ती सै तेरे कोयल जैसे बोल
उठाके ढोक नी आवे जद तू मनजा सै मोर
तेरी पायल की झनकारा मैंने ठा ठा पटके
हाय रे तेरो पल्लो लटके गौरी रे तेरो पल्लो लटके

अन्य हरियान्वी गाने भी देखे :