पिज्जा हट | Mandeep Bangru | Lyrics

मंदीप बांगरू की आवाज़ में पिज़ा हट हरियानवी गीत सोनोटेक कैसेट्स में प्रस्तुत़ हुआ हैं। इस गीत के बोल मंदीप बांगरू ने लिखे हैं। इस गाने में योगी और मिस भारती अहम किरदार में नज़र आएँगे।

सजनी की इच्छा पिज्जा खाने की हो रही हैं और नये सैंडल पहने के वो अपनी गली में घूमना चाहती हैं। उसके सैया उसकी हर बात को टाल रहे हैं और अपनी सजनी के लिए चमके वाली जूती ला रहे हैं। सैया अपनी सजनी की फिकर करना छोड़ दिया।

Pizza Hut Song Lyrics

उ घना लफन्डर हो गया आजकल फिकर करे ना मेरी हो
पिज्जा हट से पिज़ा ल्यादे जान कहवे से तेरी हो

के पिज्जा बिन शरदा ना क्यू जान मेरी हद करदी रे
तू जी ने रखले काबू में क्यू शर्म तार के धरदी रे

जब भी बोलू टाल देवे मेरा इतना कहन पुगादे हो
पहर गाल में चलूगी मैं मैने लेगी फीट दुवादे हो

तू छोड़ दे उल्टी बाता ने तेरा ईसा जुगाड़ बना दूँगा
ए जाली आले तले तलवार रेशमी ल्या दूँगा

भूलु ना एहसान तेरा मत कहिया मेरा टुक हो
फ़्लैट तली के सैंडल पिया मेरे खातिर लिए ल्याई हो
ए चमक आली जूती ल्यादू घनी टॉप की आरी से

सौ बाता की एक बात आज करदू पूरा तोड़ हो
मैं कीते डुबके मर जांगी फिर निकले तेरी मरोड़ हो
मंदीप बांगरू कहरया बैरन मतना करिए चाहाला

अन्य हरियान्वी गाने: