सूट की कढ़ाई 2 | Jaji King, Sushila Takher | Lyrics

जाजी किंग और सुशील तखर की आवाज़ में सूट की कढ़ाई 2 हरियानवी गीत हरयाणवी मैना में प्रस्तुत़ हुआ हैं। इस गीत के बोल एंडी दहिया ने लिखे हैं और म्यूज़िक कंपोजिंग मिस्टर बूटा ने की हैं। बृजेश लडवाल निर्देशित इस गाने में शिवानी राघव, अजय सरोहा, वतन इंदोरा और सचिन कटारियाअहम किरदार में नज़र आएँगे।

गौरी की चर्चा सारे गांव की बहुओ में चल रही हैं और सारे दिन बस उसी बड़ाई करती रहती हैं। जब गौरी काला रंग का सूट पहनकर आती हैं तो सूट पर कढ़ाई सूरज की किरण गिरने पर चम चम चमकती रहती हैं और उसके इस रूप को देखकर कोई उसके नजर लगा देगा। महंगे से महंगे वो कपडे पहनती हैं और उसका रूप रंग एकदम परी की तरह हैं।

Suit Ki Kadhai 2 Song Lyrics

चर्चा तेरा बहुआ मे बड़ाई मारगी x2)
ओ काले काले सूट की कढ़ाई मारगी
रे तेरे काले काले सूट की कढ़ाई मारगी

ओ लांबा ठाडा छैल बड़ाई मारगी
लांबा ठाडा छैल बड़ाई मारगी
काले काले सूट की कढ़ाई मारगी
हा मेरे काले काले सूट की कढ़ाई मारगी

(जो भी तू सूट पहेर लागे कसूत
कोई लगाएगा नज़र आड़े छोरे घने उत्त् x2)
(की लगेगी मेडम पढ़ाई मारगी जे2)
(तेरे काले काले सूट की कढ़ाई मारगी x2)

महँगी ते महँगी ओ सूट ल्यावे से
मुँह के लागे बोतल ओ पी जावे से
रोज रोज की या लड़ाई मारगी
हा रोज ऱोज तेरी या लड़ाई मरगी
काले काले सूट की कढ़ाई मारगी
हा मेरे काले काले सूट की कढ़ाई मारगी

करना पड़ेगा इज़हार ते तने सब एंडी दहिया
कहे दे से प्यार ते मानने
(तेरे लंबे लंबे बाला की लंबाई मारगी x2)
(तेरे काले काले सूट की कढ़ाई मारगी x2)

धीरे से भी काया तू किस और का
जानगी मैं छोरे तू भूखा बोर का
बाता की तेरी या बड़ाई मारगी
बाता की तेरी या बड़ाई मारगी
काले काले सूट की कढ़ाई मारगी
हा मेरे काले काले सूट की कढ़ाई मारगी

अन्य हरियान्वी गाने :